Movement Strategy/Recommendations/Summary/hi

From Meta, a Wikimedia project coordination wiki
This page is a translated version of the page Movement Strategy/Recommendations/Summary and the translation is 100% complete.
आंदोलन रणनीति कार्यकारी सारांश

लोगों के इर्द-गिर्द आंदोलन कार्यनीति केंद्रों की कहानी। वे लोग जो ज्ञान का योगदान और उपभोग करते हैं तथा वे लोग जो हमारे आंदोलन को शक्ति देने वाले विविध समुदायों एवं समूहों को बनाते हैं। 2017 में, हमने अपने आंदोलन का भविष्य बनाने के लिए एक यात्रा शुरू की। हमने अपने लिए एक महत्वाकांक्षी कार्यनीतिक दिशा निर्धारित की है: 2030 तक मुक्त ज्ञान के पारिस्थितिकी तंत्र का जरूरी बुनियादी ढाँचा बनना। यह सुनिश्चित करने के लिए कि हमारी दृष्टि को साझा करने वाला कोई भी व्यक्ति हमसे जुड़ने में सक्षम हो, हम सेवा के रूप में ज्ञान की निष्पक्षता तथा ज्ञान के लिए प्रयास करते हैं।

दो साल की अवधि में, पूरे आंदोलन के लोगों ने मौलिक रूप से खुली तथा प्रतिभागितापूर्ण कार्यनीतिक प्रक्रिया में सहयोग किया, जिससे ये चर्चा की जा सके कि कार्यनीतिक दिशा में बढ़ने के लिए हमें अपने ढांचों को कैसे सुधारना है। यह प्रलेख इस सहयोगपूर्ण प्रयास के परिणाम प्रस्तुत करता है: 10 अनुशंसाएं तथा वे अंतर्निहित सिद्धांत, जो परिवर्तन के मार्गदर्शन की रूपरेखा तैयार करते हैं। कुछ विचार मौजूदा सफलताओं तथा अविश्वसनीय विशेषज्ञता एवं अनुभव पर आधारित होते हैं, जो हमारे आंदोलन में तथा उससे आगे भी बने रहते हैं। हम अपने मिशन एवं मूल्यों के लिए जिस तरह से प्रचालन, बातचीत, और हिमायत करते हैं, उसमें कुछ लोग परिवर्तन की मांग करते हैं। तथा कुछ लोग हमसे अपने आंदोलन की लगातार सफलता के लिए काम करने, सहयोग करने एवं अभिशासन करने के नए तरीकों की कल्पना करने की अपेक्षा करते हैं।

कार्य के इस निकाय का विकास पूरी दुनिया के लगभग 100 विकिमेडियनों द्वारा किया गया है, जिसमें स्वयंसेवक, सहयोगियों तथा विकिमीडिया फ़ाउंडेशन के कर्मचारी और बोर्ड के सदस्य एवं संबद्ध संगठनों के प्रतिनिधि शामिल हैं। उन्होंने नौ विषयगत कार्य समूहों का गठन किया, उनमें से हर एक ने अनुसंधान, चर्चा तथा ऑनलाइन एवं व्यक्तिगत बैठकों में विचारों का प्रारूप तैयार किया। कई और व्यक्तियों ने भी फीडबैक शेयर किया, चर्चाओं को समृद्ध किया, तथा हक़ीकत में एवं कई घटनाओं में योगदान किया। मौजूदा अनुशंसाएं अगस्त 2019 में शुरू हुए चार प्रमुख पुनरावृत्तियों (iterations) के परिणाम हैं। फीडबैक एवं सहयोग के आधार पर, कार्य समूहों ने फिर सितंबर में दूसरी पुनरावृत्ति तैयार की जिसमें 89 अनुशंसाएं शामिल थीं। इन्हें व्यक्तिगत लेखकों द्वारा 13 के आबद्ध सेट में समेकित किया गया था। जनवरी से मार्च 2020 तक प्राप्त समृद्ध फीडबैक ने अनुशंसाओं को परिष्कृत करने तथा मौजूदा स्थिति में उन्हें अंतिम रूप देने में सहायता की: दस अनुशंसाएं तथा दस सिद्धांत।

सिद्धांत

ये सिद्धांत पूरे आंदोलन में आधारभूत मूल्य हैं, और जिनपर सभी अनुशंसाओं को निर्मित किया जाता है तथा कार्यान्वयन किया जाएगा। ये सिद्धांत हैं: लोग-केंद्रियता; सुरक्षा एवं संरक्षा; समावेशिता तथा प्रतिभागितापूर्ण निर्णय लेना; निष्पक्षता तथा अधिकारिता; अधीनस्थता तथा आत्म-प्रबंधन; प्रासंगिकता; सहयोग तथा समन्वय; पारदर्शिता और जवाबदेही; दक्षता; तथा लचीलापन। ये अंतर-संबंधित सिद्धांत बताते हैं कि मुक्त ज्ञान के पारिस्थितिकी तंत्र का ज़रूरी बुनियादी ढाँचा बनने के लिए हमारे आंदोलन को क्या करना चाहिए।

अनुशंसाएं

सिद्धांतों को अपने केंद्र में रखते हुए, आंदोलन की कार्यनीति की ये 10 अनुशंसाएं परस्पर-आश्रित परिवर्तन प्रस्तुत करती हैं जो विकिमीडिया आंदोलन के भविष्य का मार्ग प्रशस्त करते हैं:

  • हमारे आंदोलन की स्थिरता में वृद्धि करना हमसे लोक-केंद्रित होने तथा लोगों की ज़रूरतों में निवेश करने की मांग करती है। हमारे आंदोलन की स्थिरता, हमारे योगदानकर्ताओं - स्थापित स्वयंसेवकों एवं नवागंतुकों - तथा हमारी गतिविधियों की विविधता को पहचानने एवं समर्थन करने पर निर्भर करती है। यह अनुशंसा राजस्व सृजन के लिए वितरित निधियन तथा नए अवसरों के लिए समान तरीकों का अनुसंधान करती है, आंदोलन के बारे में जागरूकता बढ़ाती है, स्थानीय धन उगाहने की क्षमता विकसित करती है, तथा विविधतापूर्ण साझेदारी का पोषण करती है।

  • प्रयोक्ता अनुभव में सुधार करना हमारे उत्पादों की उपयोगिता तथा सुलभता एवं उन्हें सुधारने के निरंतर तरीकों का निराकरण करता है। यह योगदानकर्ताओं और डेवलपर समुदायों को विभिन्न प्रोफाइलों एवं उपकरणों के लिए अनुसंधान, डिज़ाइन तथा परीक्षण में शामिल करने की अनुशंसा करता है। इसमें नए लोगों के लिए संसाधन, प्रलेखन के मानक, क्रॉस-प्रोजेक्ट एवं क्रॉस-भाषा उपकरण, नई परियोजनाओं को आगे बढ़ाना तथा API का विकास करना भी शामिल है।

  • सुरक्षा एवं समावेशन का प्रावधान करना में एक आचार संहिता के सृजन, घटना की गुमनाम रिपोर्टिंग, तथा हमारी परियोजनाओं में उत्पीड़न के निराकरण की चर्चा की गयी है। यह अनुशंसा इस आंदोलन में स्वीकार्य व्यवहार के लिए एक आधाररेखा का प्रस्ताव करती है, एक सुरक्षा मूल्यांकन तथा निष्पादन योजना जिसमें तीव्र प्रतिक्रिया वाला बुनियादी ढांचा, सुरक्षा तथा संरक्षा के लिए स्थानीय क्षमता विकसित करना, कानूनी ढांचों के लिए हिमायत जो मुक्त ज्ञान के आंदोलन के लिए अनुकूल हो, तथा योगदानकर्ताओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए स्थानीयकृत गोपनीयता के उपकरण शामिल हैं।

  • निर्णय लेने में निष्पक्षता सुनिश्चित करना आंदोलन में साझा जिम्मेदारी तथा जवाबदेही स्थापित करने के लिए आधारभूत है। इस अनुशंसा में स्पष्ट एवं खुले रास्ते से निर्णय लेने में न्यायसंगत प्रतिनिधित्व, स्थानीय समुदायों की अधिकारिता तथा प्रतिभागितापूर्ण संसाधन आवंटन महत्वपूर्ण विषय हैं। यह आंदोलन के एक चार्टर, एक वैश्विक परिषद की स्थापना, क्षेत्रीय तथा विषयगत केंद्रों, तथा स्पष्ट रूप से परिभाषित भूमिकाओं, तथा सभी हितधारकों की प्रतिभागिता के लिए मार्गदर्शनों की अनुशंसा करता है।

  • स्पष्ट रूप से परिभाषित भूमिकाओं एवं ज़िम्मेदारियों पर निर्भर होना, सभी हितधारकों के बीच समन्वय करना प्रौद्योगिकी समन्वय के लिए आंदोलन में तथा भागीदारों, तकनीकी योगदानकर्ताओं, एवं विकासकर्ता समुदायों के साथ बेहतर संचार एवं सहयोग के लिए स्थान बनाने की अनुशंसा करता है। यह संसाधनों के समन्वय, नई कार्यात्मकताओं के लिए प्रौद्योगिकी परिषद की स्थापना, सूचनाओं का व्यापक आदान-प्रदान, शिक्षण एवं ज्ञान का बेहतर हस्तांतरण, तथा नेटवर्किंग के अवसर की अनुशंसा करता है।

  • कौशल तथा नेतृत्व विकास में निवेश करना हमारे आंदोलन में व्यक्तियों तथा संगठनों में समान रूप से तकनीकी तथा लोगों के कौशल विकास को देखता है। यह कौशलों की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए स्थानीय रूप से प्रासंगिक पहलों के साथ एक क्रमबद्ध वैश्विक दृष्टिकोण की अपेक्षा करता है। दृष्टिकोण को प्रासंगिक बनाया जाएगा तथा इसमें ऑनलाइन शिक्षण, सहकर्मी नेटवर्क, कई भाषाओं में सामग्री का सृजन, संरक्षण तथा कौशल विकास के लिए मान्यता तथा प्रोत्साहन शामिल होंगे। यह अनुशंसा ज्ञान हस्तांतरण को सुकर बनाने के लिए व्यक्तियों तथा ज़रूरी बुनियादी ढांचे (ऑनलाइन एवं ऑफलाइन) के लिए एक समन्वित नेतृत्व विकास योजना का प्रस्ताव करती है।

  • आंतरिक ज्ञान का प्रबंधन करना यह सुनिश्चित करने की अनुशंसा करता है कि आंदोलन का आंतरिक ज्ञान प्रयोक्ता-अनुकूल, प्रतिभागितापूर्ण तथा उच्च गुणवत्ता वाला हो। अनुशंसा के आधार पर, हमें प्रलेखीकरण की संस्कृति, सीखने के संसाधनों तक पहुंच के साथ ज्ञान के आधार तथा इस भूमिका के लिए समर्पित कर्मचारियों से समर्थन की ज़रूरत है।

  • स्वयंसेवकों की स्वायत्तता का सम्मान करते हुए, प्रभाव के लिए विषयों की पहचान करना हमें यह समझने को कहता है कि हमारी सामग्री लोगों को कैसे प्रभावित करती है तथा सामग्री अंतराल का निराकरण करने के तरीके प्रदान करती है, हमारी परियोजनाओं पर गलत सूचनाओं के महत्वपूर्ण नुकसान को समझें, सामग्री निर्माण से संबंधित संसाधनों की हिमायत करें एवं प्राथमिकता दें तथा विशेषीकृत भागीदारों के साथ काम करें।

  • निःशुल्क ज्ञान में नवाचार करना हमें संगत रहने तथा समस्त मानव ज्ञान तक पहुंच प्रदान करने के लिए हमारी परियोजनाओं तथा सामग्री प्रारूपों की हमारी सीमा का अन्वेषण करने तथा विस्तार करने को कहता है। यह अनुशंसा समुदायों की नीतियों एवं प्रथाओं के परामर्श से उनकी पहचान करने, जो ज्ञान की निष्पक्षता के प्रति बाधाओं के रूप में सामने आती हैं, नई परियोजनाओं के लिए मार्ग बनाने, और विभिन्न स्वरूपों और उपभोग के साधनों में मुक्त ज्ञान को सुलभ बनाने के लिए उपकरण और साझेदारी विकसित करने का प्रस्ताव करती है।

  • प्रभावी ढंग से और कुशलता से उस आंदोलन को लागू करने के लिए जो इस आंदोलन के द्वारा तथा उसके लिए हैं, हमें व्यक्तिगत तथा संगठनात्मक आत्म-जागरूकता विकसित करने की, तथा मूल्यांकन करने, दोहराने, तथा अपने काम को अनुकूलित करने की ज़रूरत है। इसके लिए संसाधनों, विशेषज्ञता तथा क्षमता, साझी जिम्मेदारी, तथा परस्पर जवाबदेही के मूल्यांकन, प्रगति को संसूचित करने, सीखने को सुकर बनाने, तथा हमारे काम को अनुकूलित करने की ज़रूरत है।

इन दस अनुशंसाओं तथा अंतर्निहित सिद्धांतों को लागू करने से मौलिक सांस्कृतिक एवं संरचनात्मक परिवर्तन होंगे जो हमारे आंदोलन को उन सभी का स्वागत करने में सक्षम बनाएँगे जो 'ऐसी दुनिया जिसमें हर मनुष्‍य स्वतंत्र रूप से सभी ज्ञान के योगफल में साझा कर सकता है' की हमारी दृष्टि को साझा करते हैं। आगामी वर्षों में इन परिवर्तनों को सहयोगपूर्ण तरीके से लागू करने से, हम उन सभी लोगों की ज़रूरतों का निराकरण कर सकेंगे, जो हमारे आंदोलन को ताक़त देते हैं तथा जिनकी हम - अभी तथा भविष्य में - सेवा करते हैं तथा जिन्हें हम मुक्त ज्ञान के पारिस्थितिकी तंत्र के ज़रूरी बुनियादी ढांचे के रूप में देखते हैं।